टाटा मोटर्स ने अपने सबसे महत्वाकांक्षी प्रोजक्ट के तहत नैनो को भारतीय बाजार में लॉन्च किया था उसे फिलहाल भारत में बंद कर दिया। देश के सभी टाटा डीलरशिप ने इस बात की पुष्टि कर दी है। हालांकि इस कार को डिमांड के आधार पर कंपनी बनाना जारी रखेगी। ज्यादातर डीलर्स ने अपना नैनो का स्टॉक क्लीयर कर लिया तो है वहीं बहुत से डीलर्स ऐसे हैं जो 2018 नैनो पर 15 हजार रुपये तक का डिस्काउंट देकर अपना स्टॉक क्लीयर कर रहे हैं। हालांकि आपको बताते चलें कि अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। पर जब बेचने वालों ने ही अपना हाथ उठा लिया है तो इसे बनाने का कोई और मतलब समझ नहीं आता।

ये बात सबको पता है कि 1 जुलाई 2019 से भारत में जो भी कारें बेची जाएंगी उसमें ड्राइवर एयरबैग, स्पीड वार्निंग सिस्टम, सीटबेल्ट रिमाइंडर ड्राइवर व को ड्राइवर के लिए, रियर पार्किंग सेंसर स्टैंडर्ड फीचर के तौर पर होने चाहिए। इसके ठीक बाद 1 अप्रैल 2020 में सभी कारें बीएस6 मानक के अनुरूप बनाई जाएंगी। आपको बताते चलें कि नैनो में एबीएस भी नहीं है इन फीचर्स की बात तो दूर की है। ऐसे में ये स्पष्ट हो गया है कि ये गाड़ी अप्रैल 2019 से नहीं बिकेगी।

इसके अलावा सबसे ज्यादा किफायती इस कार को वो रिस्पांस बाजार से नहीं मिला है जिसकी आस लगाए टाटा मोटर्स बैठी थी। 2018 से इसकी बिक्री गिरते हुए 65 यूनिट तक आई इसके बाद ये गिरकर तीन यूनिट तक पहुंच गई। कई मामले में कंपनी ने नैनो को जरूरी अपडेट भी दिए जिसमें स्टाइलिंग, एएमटी, पावर स्टीयरिंग जैसी चीजें शामिल थीं पर इसका कोई खास असर नहीं हुआ। फिर खबर ऐसी भी आई कि डीजल इंजन वाली नैनो आएगी लेकिन टाटा ने इन सारी योजनाओं को ठंडे बस्ते में डाल दिया। और इस तरह से देश में लोगों के मन में कार के सपने को साकार करने की उम्मीद दिखाने वाली लखटकिया कार बंद हो गई है। ये खबर इसलिए पक्की है क्योंकि टाटा मोटर्स रातों रात इस कार को पूरी तरह अपग्रेड नहीं कर सकती जिससे सारे मानक फॉलो कर ले जो कि बस कुछ ही महीनों में लागू होने वाले हैं।