इस बात में कोई शक नहीं किया जा सकता कि बजाज पल्सर सालों से परफॉर्मेंस बाइक सेगमेंट में भारत में अपना बर्चस्व कायम किए हुए है। लेकिन इसके साथ ही ये बात भी उतनी ही सत्य है कि बजाज को टीवीएस कड़ी चुनौती अपनी अपाचे सीरीज से चुनौती देती रही है। अब तक पूरी दुनिया में टीवीएस ने 30 लाख से अधिक अपाचे मोटरसाइकिलों की बिक्री की है। लेकिन इतनी बड़ी सफलता के बावजूद काफी लंबे समय से उम्मीद की जा रही थी कि कंपनी इसे कोई बड़ा फेसलिफ्ट देगी। इंतजार का फल मीठा होता है और टीवीएस अपाचे प्रशंसकों के लिए वो घड़ी आ गई जिसका वो सालों से इंतजार कर रहे थे। टीवीएस ने आखिरकार अपनी बहुप्रती‌क्षित टीवीएस अपाचे के नए अवतार अपाचे आरटीआर 160 के कार्बुरेटर व फ्यूल इंजेक्‍शन वेरिएंट को पेश कर ही दिया। मैंने कंपनी के बेंग्लूरू के पास होसूर स्थित प्लांट पर इन दोनों ही मॉडलों को चलाया और जानने की कोशिश की कि आखिरकार ये बाइक आपके कितने काम की है। इसके पहले मैं इसे चलाना शुरू करूं मैं आपको एक वैधानिक चेतावनी देना चाहता हूं और एक निवेदन भी करना चाहता हूं।

वैधानिक चेतावनी
इस बाइक को जब मैं टेस्ट करके दिल्ली लौटा और दूसरे दिन सुबह अपनी राइड पर निकला तो मुझे वहां एक बड़ा एक्सीडेंट देखने को मिला। दो राइडर अपनी तेज रफतार मोटरसाइकिल से संतुलन खो बैठे और वसुंधरा गाजियाबाद जयपुरिया स्कूल के पास डिवाइडर से टकरा गए जिनमें से एक की मृत्यु सिर में तेज चोट लगने की वजह से हो गई और दूसरे को स्‍थानीय लोगों ने अस्पताल पहुंचाया जहां उसकी हालत भी गंभीर बनी हुई है। दो युवा जिनकी उम्र 20 साल से ज्यादा नहीं थी अपनी जिंदगी दांव पर लगाकर मजे ले रहे थे। जब जिंदगी ही नहीं रहेगी तो मजे किस काम के। अगली बार जब बाइक पर सवार होने का मन करे तो पहले देख लें कि क्या आपके पास हेलमेट है या नहीं। अगर नहीं है हेलमेट तो फिर एक बढ़िया हेलमेट खरीद लें इसके बाद अपनी बाइक चलाने निकलें। जिंदगी कीमत है उसका मोल समझें, पावर ऑन व्हील के तरफ से इस घटना में मारे गए एक युवा के शोकसंतप्त परिवार के साथ हम संवेदना व्यक्त करते हैं। आप अपना मोल समझें और ये मानें कि आपकी वजह से किसी और की भी मुश्किलें बढ़ सकती हैं आखिरकार आपको कोई बहुत ज्यादा प्यार करने वाला घर में बैठा इंतजार कर रहा है। युवा जोश के उन्माद का ही नाम नहीं बल्कि भविष्‍य की मजबूत कड़ी भी है। बिना मौत सिर्फ मस्ती के लिए मर जाना जिंदगी नहीं है। इस बात का ख्याल रखें, और अब पढ़ें अपनी फेवरेट बाइक का ये रिव्यू।

अंदाज-ए-बयां
टीवीएस के डिजाइनरों ने नई अपाचे आरटीआर के डिजाइन में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है। इसकी स्टाइलिंग इसकी बड़ी मोटरसाइकिल से काफी प्रेरित लगती है-मैं यहां पर अपाचे आरटीआर 200 की बात कर रहा हूं। परिवार से समानता कोई बुरी बात नहीं है आखिरकार हर किसी की अपनी एक पहचान होती है और टीवीएस आरटीआर 200 एक खूबसूरत मोटरसाइकिल है। जब तक आप इसे काफी बारीकी से नहीं देखेंगे तब तक इसमें फर्क करना बहुत मुश्किल रहेगा। बदलाव की बात करें तो इसमें साधारण नया एलॉय डिजाइन, एक नया बॉडी पैनल, एक ही टुकड़े में बनी सीट और एक बढ़िया आरामदायक हैंडलबार दिया गया है। इसमें लगी एलईडी डीआरएल भी आरटीआर 200 से लिया गया है जिससे एक आक्रामक अंदाज मिलता है साथ ही इसका एलईडी टेललाइट भी इसके जैसा ही है। इसमें लगा पूरी तरह से डिजिटल इंस्ट्रूमेंटल कंसोल भी वहीं से लिया गया है तथा पहली बार आरटीआर 160 में इसे जगह दी गई है। इसके फ्यूल इंजेक्टेड वेरिरएंट में आपको गियर पोजीशन इंडीकेटर और लैप टाइमर मिलेगा लेकिन कार्बुरेटर में ये दोनों ही नहीं दिए गए हैं। ‌इसमें दिए गए स्विच गियर की गुणवत्ता काफी शानदार है। इसमें ‌दी गई लाइटें ठीक वैसी ही आपको नजर आएंगी जैसे कि टरीवी में आपको दिखाई पड़ेगा। इसकी एक भी वायरिंग कहीं से आपको इधर-उधर लटकी नहीं मिलेगी। यही वजहें हैं जो इसे एक शानदार बाइक बनाती हैं।

दिल की धड़कन
अपाचे की रेंज को हमेशा से इसके परफॉर्मेंस के लिए जाना गया है। नई अपाचे आरटीआर 160 इस वर्ग की सबसे सशक्त मोटरसाइकिल है। टीवीएस इसे दो इंजन विकल्पों (कार्बुरेटर व फ्यूल-इंजेक्‍शन) के साथ बाजार में लेकर आई है। इसका कार्बुरेटर वेरिएंट 16.5 एचपी की शक्ति जबकि फ्यूल इंजेक्‍शन 16.8 एचपी की शक्ति देती है। टॉर्क की बात करें तो 14.8 एनएम के साथ दोनों ही इंजन एक समान हैं। इसमें 4 वॉल्व वाली तकनीक दी गई है जबकि प्रतिस्पर्धी मॉडलों की बात करें तो उनमें से ज्यादातर के पास सिर्फ 2 वॉल्व हेड ही हैं। जब मैं इस मोटरसाइकिल पर बैठा तो मेरी धारणा टीवीएस के बारे में एकदम बदल गई। मुझे नहीं लग रहा था की टीवीएस की ये बाइक इतनी शानदार हो जाएगी चलाने में। इसका इंजन अपना वो सारा काम करता है जिसकी उम्मीद आप एक परफॉर्मेंस मोटरसाइकिल से करते हैं लेकिन इसके लिए यह शोर नहीं मचाती। इससे एक बात साबित होती है जो चिल्लाता है वह अपने काम को उतना सही से अंजाम नहीं दे पाता जो कोई शांत रहकर दे सकता है। मैं अपने 90 किलो के वजन के साथ इस मोटरसाइकिल को सिर्फ 115 की गति तक ही पहुंचा पाया जबकि मुझसे हाइट व वजन में कम कई राइडरों ने इसे 126 ‌किमीप्रघं तक भी पहुंचाया। लेकिन मुझे इसे सबसे ज्यादा चलाने में मजा तब आया जब ये 82 से 92 किमीप्रघं की गति पर चली। इसका पांच स्पीड वाला गियरबॉक्स मजेदार है जो ‌आपकी जरूरत के हिसाब से शानदार शिफ्टिंग देता है। लेकिन पांचवें गियर में जाकर बाइक को 100 किमीप्रघं की गति पार करवाने में थोड़ा इंतजार करना पड़ता है। कॉर्नर पर ये मोटरसाइकिल आपको मुड़ना सिखाएगी और आपको कभी भी तेज कॉर्नर या टाइट कॉर्नर पर आपको डराएगी नहीं। टीवीएस ने कोई भी माइलेज इससे क्लेम नहीं किया लेकिन ऐसा लगता है कि इसका माइलेज 50 किमीप्रली तक जरूर आएगा अगर इसे एक सामान्य गति पर चलाया गया तो।

ये भी जानें
इस मोटरसाइकिल में आपको पूरी तरह से नया फ्रेम मिलेगा। पहली बार अपाचे आरटीआर 160 में कंपनी ने मोनोशॉक सस्पेंशन प्रयोग किया है। इसके सामने लगाया गया टेलिस्कोपिक फोर्क आरटीआर 200 की तुलना में 33 मिलीमीटर छोटा है। इसके 17 इंच के एलॉय व्हील पर आपको टीवीएस रेमोरा टायर लिपटे मिलेंगे जो कि एक शानदार ग्रिप प्रदान करते हैं। इसके ड्रम ब्रेक वाले मॉडल में 110/80 सेक्‍शन टायर दिए गए हैं जबकि डिस्क ब्रेक वाले वर्जन में 130/70 सेक्‍शन टायर लगे हैं। टीवीएस का कहना है कि ऐसा करके एंट्री लेवल कीमत को कम करने में मदद मिली है। एक बात थोड़ी समझ नहीं आई वो ये थी कि टीवीएस पहली ऐसी मोटरसाइकिल कंपनी थी देश में जिसने 2011 में एबीएस को विकल्प के रूप में पेश किया था। लेकिन आरटीआर 160 में ग्राहकों को ये विकल्प के रूप में भी नहीं मिलने जा रहा। ये दुखद है। पुरानी आरटीआर की तुलना में ये 10 किलो ज्यादा वजनी है पर चलाने में इसका अहसास आपको नहीं होगा क्योंकि इसकी डिजाइन उस अंदाज में दी गई है।

हमारी राय
समय की परीक्षा में तपकर अब अपाचे और परिपक्व हो चुकी है। इसे आप न तो देखकर निराश होंगे न ही चलाकर। इसकी स्टाइलिंग आकर्षक है। कुल मिलाकर आपके हसरतों को ये बाइक पूरा करती है। यह बाइक एक कंपलीट पैकेज है। इसकी शुरुआती कीमत 81 हजार 490 रुपये है। मेरा मानना है कि इस वर्ग की प्रतिस्पर्धा में ये पल्सर व हौंडा को कड़ी टक्कर देने जा रही है।