2013 में जब हौंडा अमेज को कंपनी भारतीय बाजार में लेकर आई थी तो उस समय लोगों को इस कार से ज्यादा इंतजार हौंडा के पहले डीजल इंजन का था। उस समय इस कार को कंपनी के लोकप्रिय हैचबैक ब्रियो को आधार बनाकर तैयार किया गया था। इस बात को गुजरे हुए पांच साल से भी अधिक का वक्त हो गया लोगों को हौंडा का डीजल इंजन भी पसंद आया और ये कार भी। सब फोर मीटर के दायरे में बनी इस सेडान में कमियों से ज्यादा खूबियां थीं। लेकिन अब डीजल व पेट्रोल की कीमतों में ज्यादा फर्क नहीं रह गया जिसके चलते डीजल का भूत भारतीय ग्राहकों के सिर से काफी हद तक उतर चुका है। भारतीय सड़कों पर पहली पीढ़ी की लगभग ढाई लाख अमेज कारें दौड़ रही हैं। ऐसे में अब बदलाव का ये सही समय था जिसे कंपनी ने अच्छे से समझा और अब भारतीय बाजार में जल्‍द ही हौंडा अमेज आने के लिए तैयार है और इसकी बुकिंग धड़ल्ले से भारतीय ग्राहक अपने पसंदीदा रंग के साथ करवा रहे हैं। हमने इस गाड़ी को बेंग्लूरू के शानदार मौसम मे टेस्ट किया। आइए आपको भी हौंडा अमेज के साथ भारतीय बाजार में आए पहले डीजल सीवीटी का फायदा भी बताते हैं और जानते हैं कि अब ये ‌आपके कितने काम की है।

भारतीय बाजार में बीते पांच सालों में हौंडा ने लगभग 250000 अमेज कारों को बेचा है। 2013 में हौंडा ने अपने पहले डीजल इंजन को इसके साथ पेश किया था और अब सेगमेंट फर्स्ट डीजल सीवीटी को लेकर आई है।

ये दिखने में कैसी है

पहली पीढ़ी की अमेज की तरह दूसरी पीढ़ी की अमेज भी पूरी तरह से एक नए प्लेटफॉर्म पर बनाई गई है, ये वो प्लेटफॉर्म है जिस पर भविष्य में हौंडा अपने कई और कारों को पेश करेगी। इससे एकदम साफ है कि अक्तूबर 2019 में होने जा रहे क्रैश टेस्ट को लेकर अभी से कंपनी ने अपनी कमर कस ली है। क्रैश टेस्ट के जरूरी मानकों को पूरा करने के लिए इसके पूरे बॉडी की संरचना को मोटे क्रॉस सेक्शन और मजबूत क्रंपल जोन के साथ बनाया गया है। सबसे अच्छी बात इसकी ये रही है कि इसके वजह से इस गाड़ी का वजन नहीं बढ़ा है बल्कि पहले की तुलना में ये 40 किलो तक हल्की हो गई है। ऐसा हौंडा इसलिए कर पाई क्योंकि इसमें बड़े पैमाने पर उच्च तन्यता स्टील का इस्तेमाल किया जो कि हल्‍के भी हैं व पहले वाली अमेज की तुलना में ज्यादा मजबूत भी।

हर तरह से हौंडा अमेज थोड़ी बड़ी हुई है चाहे बात चौड़ाई, ऊंचाई या फिर लंबाई की ही क्यूं न हो, पहले की तुलना में इसका व्हीलबेस भी 65 मिलीमीटर तक बड़ा हुआ है। आपको एक बात समझाते चलें कि व्हीलबेस बढ़ने का सीधा फायदा केबिन को मिलता है लेकिन डिजाइन के तौर चुनौती बढ़ जाती है। लंबे व्हीलबेस के साथ सी पिलर थोड़ा सा पीछे खिसका है, जिसके चलते बहुत ही चालाकी से हौंडा ने बूट और रूफलाइन का सामंजस्य बखूबी बिठा दिया है। बहुत ही सहजता के साथ सी पिलर के तरफ रूफ का प्रवाह होते हुए नजर आता है और इसकी डिजाइन सटीक व आकर्षक नजर आती है। एक वजह ये भी होगी जो आपको पसंद आएगी जब हौंडा अमेज को आप प्रतिस्पर्धा की अन्य गाड़ियों के साथ कंपेयर करके देखेंगे।

कुल मिलाकर नई हौंडा अमेज का डिजाइन काफी आकर्षक है और आपको एक स्पष्ट कर दें कि एक भी एंगल नई अमेज में आपको पुरानी पीढ़ी की अमेज का देखने को नहीं मिलेगा और इसके लिए हौंडा बधाई का पात्र है। नई अमेज का फ्लैट बोनट और सिग्नेचर ग्रिल बार इसको काफी चौड़ी कार के रूप में पेश करती हैं। वास्तव में सिर्फ ये चौड़ी दिखती नहीं बल्कि सामने 15 मिलीमीटर व पीछे ये 25 मिलीमीटर तक ये चौड़ी हुई है जिसके चलते इसके 175/65/ आर15 टायर काफी छोटे नजर आते हैं। इसके साइड से उभरती लाइनें इसको सामान्य व सिंपल डिजाइन प्रदान करती हैं। पीछे डिजाइन की बात करें तो ये थोड़ी अलग नजर आती है और सी आकार वाले टेल लैंप के कारण आप इसे मिनी सिविक समझने की भी भूल कर सकते हैं। इस बात से आप इसके प्रीमियम होने का अंदाजा लगा सकते हैं।

पहले की ही तरह इसमें अब 90 एचपी की शक्ति देने वाला 1.2 लीटर, फोर सिलेंडर पेट्रोल इंजन और 100 एचपी की शक्ति देने वाला 1.5 लीटर फोर सिलेंडर डीजल इंजन दिया गया है जो कि पांच स्पीड मैनुअल व ऑटोमेटिक यानी कि सीवीटी से संपन्न है। हालांकि डीजल सीवीटी मैनुअल की तुलना में 20 फीसदी कम शक्ति देता है, ऐसा इसलिए किया गया है जिससे ट्रांसमिशन की उम्र बढ़े व ये सहज प्रदर्शन देती रहे। सीवीटी को जब आप चलाएंगे तो पता चलेगा कि इसमें बहुत ज्यादा टॉर्क नहीं रहता, हौंडा के अनुसार ऐसा होने से इसकी बेल्ट फिसल सकती है इस वजह से सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इंजन के परफॉर्मेंस पर काबू रखा गया है। लेकिन इसका फायदा आपको बढ़िया माइलेज में मिलेगा व इससे डीजल इंजन के वाइब्रेशन व हार्शनेस के स्तर पर नियंत्रण रहेगा। तो कुल मिलाकर डीजल सीवीटी आपको बढ़िया माइलेज देगी।

चलाने में है कैसी
हौंडा का 100 एचपी, 1498 सीसी फोर सिलेंडर डीजल पहले की ही तरह बढ़िया रिस्पांस देता व एक्सीलरेटर का इनपुट बिना किसी देरी के अपना काम करने लगता है। बहुत ही सहजता के साथ शक्ति बिना देरी किए अपना काम करना शुरू कर देती है। मिड रेव पर पावर कायम रहती है और जब आप हाई रेव के तरफ अग्रसर होते हैं तो इंजन कहीं से भी तनाव में नहीं दिखता। डीजल इंजन के आवाज को कम करने के लिए हौंडा ने इंजन में कई जरूरी बदलाव किए हैं जिससे आवाज पर नियंत्रण रखा जा सके। हालांकि डीजल इंजन अपनी पहचान केबिन में पहुंचा ही देता है पर इससे क्या शिकायत करना डीजल इंजन का यही नेचर है। इसका फाइव स्पीड मैनुअल गियर बॉक्स इस सेगमेंट में सबसे बढ़िया व सहज है और इसकी शिफ्टिंग में खूब मजा आता है।

मुझे इसके सीवीटी से इसलिए कोई शिकायत नहीं है कि हौंडा ने जिस मकसद से इसको बनाया है वह इसमें बखूबी खरी उतरती है। इसका पावर 20 फीसदी कम यानी कि 80 एचपी है। लेकिन शहरी ड्राइविंग में या फिर हाईवे की ड्राइविंग में यह समझने के लिए कि इसमें शक्ति कम है आपको तेज एक्सीलरेट करना होगा जो कि आज का ट्रैफिक कंडीशन आपको करने नहीं देगा, और यहीं पर सीवीटी अपना वो काम कर जाती है जिसे दिमाग में रखकर हौंडा ने इसे पेश किया। इसका सीवीटी व इंजन की रिस्पांसिव प्रकृति इसे सुकून भरी कार बनाती है।

इसका पेट्रोल इंजन 1.2 लीटर का है जो कि 90 एचपी की शक्ति देता है और पुरानी अमेज की तरह इसमें कोई ज्यादा फर्क महसूस नहीं होता। आप सलीखे से इसके एक्सीलरेटर के साथ पेश आइए आपको यह शिकायत का मौका नहीं देगी। लेकिन मिड रेंज में ये जब अपना पंच गंवाती है तो थोड़ा मन दुखता है पर अगले ही पल गियर शिफ्टिंग के साथ आपके माथे का यह पसीना सूख भी जाता है। लेकिन इसे आप तब महसूस करेंगे जब हाईवे पर किसी गाड़ी को ओवरटेक कर रहे होंगे। लेकिन ऐसा इस वजह से है क्योंकि बढ़िया माइलेज का भरोसा दिलाती हौंडा ने चौथे व पांचवें गियर के शिफ्टिंग को लंबा बना दिया है जिसके चलते आपको अब पुरानी अमेज की तुलना में 10 फीसदी ज्यादा अच्छा माइलेज मिलेगा। यानी कि अब हौंडा 19.5 किमीप्रली का माइलेज देती है अपने पेट्रोल इंजन के सहारे।

अधिकतर हौंडा पेट्रोल कारों की तरह यह 1.2 लीटर पेट्रोल इंजन भी एक्सीलरेशन पसंद करता है। इसका पांच स्पीड मैनुअल चलाने में काफी सहज है, इसमें भी आपको सीवीटी ऑप्‍शन मिलेगा जो सिटी ड्राइविंग में आपके दर्द पर मरहम लगाने का काम करेगा। इसकी सबसे अच्छी बात ये है कि इसमें आपको पैडल शिफ्टर भी मिलेगा। कुल मिलाकर एक सब फोर मीटर सेडान के तौर पर इसमें उतनी शक्ति है जो आपके स्टेटस को मेनटेन रखने के साथ आपकी मंजिल बिना किसी बाधा के तय करवा देगी। इस अमेज की सबसे खास बात है इसकी बढ़िया राइड गुणवत्ता। खराब सड़कों का सामना यह बहुत ही साहस के साथ करती है और ऊबड़-खाबड़ गड्ढों से यात्रियों को डराती नहीं है। इसका बॉडी मूवमेंट बढ़िया तरीके से संतुलित रहता है। अमेज की सबसे बड़ी खासियत ये है कि इसे देखकर कोई भी नहीं अंदाजा लगा सकता कि ये सब फोर मीटर सेडान है। यही वजह है कि अमेज को शानदार बुकिंग मिल रही है।

आओ अंदर बैठकर देखें
ये ऑल न्यू अमेज है इसलिए इसके अंदर भी आपको पुरानी गाड़ी के अंश नहीं मिलेंगे। इसका दोहरे टोन वाला डैशबोर्ड हो सकता है आपको ज्यादा होचपोच लगे लेकिन इसमें ढेर सारा डिजाइन इस्तेमाल किया गया है जो आपको बोर नहीं होने देगा। इसमें लगा प्लास्टिक साफ्ट टच नहीं है लेकिन इसका टेक्सचर प्रीमियम फील देता है। इसकी कुछ चीजें जैसे कि स्टीयरिंग कंट्रोल, क्लाइमेट कंट्रोल नॉब्स और बटन काफी बढ़िया तरीके से फिनिश किए गए हैं और इसका स्टीयरिंग व्हील बढ़िया ग्रिप देता है। सबसे बड़ा सुधाार आपको इसके सामने की सीट में मिलेगा जिसमें गले को सपोर्ट देने के लिए उच्च गुणवत्ता वाले फेब्रिक्स का प्रयोग किया गया है। इसकी सीटों को दोबारा से डिजाइन किया गया है जो आपको बढ़िया सपोर्ट देती हैं। ये चीजें काफी हैं ये साबित करने के लिए कि इस सेगमेंट की ये सबसे बढ़िया कार है जब बात सीटिंग कंफर्ट की आती है। इसका टचस्क्रीन ऑपरेट करने में आसान है लेकिन बगल में दिए गए कड़े बटन उंगलियों को दुखाने लगते हैं। नई अमेज एपल कार प्ले और एंड्रायड ऑटम सेटेलाइट नेवीगेशन के साथ आती है जो कि आज के प्रतिस्पर्धा के हिसाब से जरूरी हो गया है।

पुरानी अमेज में भी जगह की कोई कमी नहीं थी और इस बात का इस नई पीढ़ी अमेज में पूरा ध्यान दिया गया है। इसकी पिछली सीट काफी आरामदायक है और आपके थाई को ये बढ़िया सपोर्ट देते हैं। इसमें लेगरूम की कोई शिकायत नहीं है और नीरूम भी शानदार है। लेकिन ज्यादा लंबे लोगों को सिर उठाने में थोड़ी दिक्कत हो सकती है। इसमें सिर के आराम के लिए दिया गया फिक्स सपोर्ट समझ से परे है जो आपके काम नहीं आएगा खासकरके लंबे यात्रियों के लिए। हालांकि नई अमेज में अब आपको रियर एयर कॉन वेंट नहीं मिलेगा, उसको हटाकर कंपनी ने अब इसमें अधिक क्षमता वाला एसी लगा दिया है पर आप परेशान न हों आपको इसकी के‌बिन में गर्मी नहीं लगेगी। उपकरणों की बात करें तो आपको इसमें क्रूज कंट्रोल मिलेगा लेकिन ये सिर्फ टॉप वेरिएंट में ही है। कीलेस एंट्री, टिल्ट स्टीयरिंग अडजस्टमेंट, टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, क्लाइमेट कंट्रोल और पेट्रोल कार में पैडलशिफ्टर दिया गया है। सेफ्टी किट की बात करें तो इसमें एबीए, ईबीडी, ड्यूल एयरबैग और आइसोफिक्स चाइल्ड सीट माउंट हर वेरिएंट में स्टैंडर्ड है। इसके बूट में आपको ढ़ेर सारी जगह मिलेगी पहले की तुलना में अब इसका बूट 20 लीटर ज्यादा बड़ा है। अब नई अमेज का बूट 420 लीटर का है जो कि इस सेगमेंट में सबसे ज्यादा है।

हमारा फैसला
अगर आपको अमेज इसलिए पसंद नहीं थी क्योंकि उसका डिजाइन आपको समझ नहीं आ रहा था तो अब मिनी सिविक जैसी एक गाड़ी आपका इंतजार कर रही है और ये है नई पीढ़ी की अमेज। इसका डिजाइन शानदार है शायद इसे देखकर आप सिटी खरीदना छोड़कर सस्ते में अमेज ले लें। लेकिन यह सब निर्भर करता है इसकी कीमत पर। डिजायर, एस्पायर, एमियो, टिगोर के अलावा कुछ और अच्‍छा आपको चाहिए तो ये कार आपके लिए ही बनी है। हौंडा का ये ऐसा पैकेज है जिसे आप जरूर पसंद करेंगे।

वीडियो रिव्यू देखेंः-