भारतीय ऑटो इंडस्ट्री के लिए बीता साल काला अध्याय जैसा साबित हुआ जब दुनिया की एक बड़ी नामी कंपनी जनरल मोटर्स ने भारत में अपनी गाड़ियों की बिक्री बंद कर दी। ये वाकया उन ऑटो कंपनियों के लिए बड़ा झटका थी जो सालों से भारत में अपने कारोबार की उम्मीद लगाए बैठी थीं। लेकिन बहुत ही कम समय में लोग इस बात को भूल गए क्योंकि ऑटो एक्सपो आया और उसमें भविष्य की एक ऐसी सुनहरी रोशनी की अलख दिखाई जिसमें न सिर्फ भारतीय ग्राहकों के चेहरे खिल गए बल्कि ऑटो कंपनियों को भी एक भरोसा दे गई। इस आलेख में हम जिसकी बात कर रहे हैं वो है किया मोटर्स। किया मोटर्स ने भारत में अपने कारोबार की नींव रख दी है। हमने इंटरनेशनल स्पेसीफिकेशन वाली किया ऑप्टिमा का यहां पर एक्सक्लूसिव ड्राइव किया और जानने की कोशिश की भारत के परिवेश के हिसाब से किया मोटर्स को कितनी मेहनत करने की जरूरत है। आइए इस कार के साथ इस कंपनी का भी विश्लेषण करते हैं।

एक और कोरियन कंपनी भारत में अपनी किस्मत आजमाने आ रही है। एक मुश्किल माहौल में अनुकूल शुरुआत करने की कोशिश दक्षिण कोरियाई कार कंपनी किया मोटर्स 2019 सितंबर में अपनी पहली कार पेश करेगी। लेकिन हमने इसकी लोकप्रिय सेडान ऑप्टिमा का इंडिया में एक्सक्लूसिव ड्राइव किया। आइए एक विश्लेषण करके आपको बताते हैं कि किया के लिए यहां क्या संभावनाएं हैं।

ऑटो एक्सपो 2018 से श्रीगणेश
इस दक्षिण कोरियाई कार ने ऑटो एक्सपो में अपनी आधिकारिक घोषणा की, साथ ही पेश किया भारत के लिए तैयार अपने पहले उत्पाद के एसपी कांसेप्ट को। भारतीय अंदाज में लिपटी इस कार के बाहर से जितना दिखा उसके हिसाब से लोगों ने इसकी सिर्फ तारीफ ही की। ये कार कैसी होगी चलाने में, क्या होंगे फीचर्स, कैसी होगा इंटीरियर और कौन सा लगेगा इंजन ये सब सवाल बाद में जवाब के रूप में आएंगे। लेकिन अंदाज में इसने लोगों को अपनी ओर खूब रिझाया। 2019 सितंबर में जब ये कांसेप्ट कोई नाम और आकार लेकर प्रगट होगा तब सारी जानकारी आप तक हम पहुंचाएंगे लेकिन तब ये जानने के लिए कि क्या किया की गाड़ियां भारत के अनुरूप हैं हमने इसकी लोकप्रिय सेडान ऑप्टिमा का इंडिया में एक्सक्लूसिव ड्राइव किया। लेकिन ऑप्टिमा की ड्राइव से शुरू करने से पहले आपको बता दें कि किया इलेक्ट्रिक कार सेगमेंट में भी कार लॉन्च करने की योजना के साथ आ रही है और कंपनी की योजना साल 2025 तक 16 इलेक्ट्रिक कारें लॉन्च करने की है। कंपनी का पहला प्लांट आंध्रपद्रेश में स्‍थापित किया गया है। कंपनी इसके लिए भारत में करीब एक अरब डॉलर का निवेश कर रही है। इस प्लांट की प्रोडक्शन कैपेसिटी 3 लाख यूनिट की होगी। किया मोटर्स दुनिया के शीर्ष 10 वाहन निर्माताओं में शामिल है।

किया ऑप्टिमा और भारत
किया की ऑप्टिमा एक लग्जरी सेडान है जिसका इंटरनेशनल मार्केट में सबसे बड़ा कंपटीटर टोयोटा कैमरी और हौंडा एकॉर्ड है। इस को देखकर भारत में तब तक कोई नहीं चौंकता जब तक उसकी नजर किया के बैज पर नहीं जाती। किया लगा बैज लोगों को इस बात को समझने के लिए जरूर उकसाता है कि ये कब और कहां से यहां आई है। एक एक बड़ी सेडान है जिसकी लग्जरी का दर्शन इसको देखने से ही पता चल जाता है। ग्राउंड क्लीयरेंस के मामले में यह एक औसत भारतीय लग्जरी सेडान है जिसे ऊबड़-खाबड़ रास्ते तो नहीं पसंद हैं पर मखमली सड़कों की शहंशाह है।

इसमें लगा 1.7 लीटर वाला इंजन 185 एचपी की शक्ति प्रदान करता है। हाईवे पर ड्राइविंग के दौरान आपको यह एक बड़ा आत्मविश्वास देती है। हालांकि अभी कंपनी को इसे यहां लाने की कोई योजना नहीं है। लेकिन इस कार में बिना कोई बदलाव किए भी उतारा जाए तो यहां के लिए कोई ज्यादा दिक्कत नहीं आने वाली। लगभग 22 हजार 600 अमेरिकी डॉलर कीमत वाली ये कार भारत में आकर जरूर महंगी हो जाएगी। लेकिन अगर इसका लोकल स्तर पर प्रोडक्‍शन किया गया तो अमेरिकी कीमत यहां भी मेल खा सकती है। कुल मिलाकर किया के प्रोडक्ट भारतीय कंडीशन से बहुत ज्यादा अलग नहीं है इसलिए इसके यहां सफल होने की संभावना ज्‍यादा है।

वीडियो देखें