भारत के स्कूटरीकरण में नई उंचाईयों को छूते हुए हौंडा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इण्डिया प्रा लिमिटेड ने आज ऐलान किया है कि इसके स्कूटरों की बिक्री 25 मिलियन युनिट्स के ऐतिहासिक आंकड़े को पार कर गई। कंपनी को 10 मिलियन युनिट्स तक पहुंचने में 13 साल लगे, इसके बाद मात्र 3 सालों में हौंडा के साथ 10 मिलियन नए उपभोक्ता जुड़ गए। 1 साल में अगले 5 मिलियन उपभोक्ताओं के साथ, हौंडा 2 व्हीलर्स इण्डिया अब देश की एकमात्र स्कूटर निर्माता बन गई है, जिसके 25 मिलियन से ज़्यादा संतुष्ट उपभोक्ता हैं- यह उद्योग जगत में एक नया रिकॉर्ड है।

18 साल पहले हुई थी शुरुआत
18 साल पहले स्कूटरीकरण में नया बदलाव आया जब होण्डा ने देश के लुप्त होते स्कूटर सेगमेन्ट में आइकोनिक एक्टिवा का लॉन्च किया था। 2001 में इसका योगदान 10 फीसदी रहा, जो आज 2018 में 32 फीसदी के आंकड़े तक पहुंच गया है, होण्डा स्कूटरों के शानदार परफोर्मेन्स और विश्वसनीयता ने भारतीय दुपहिया बाज़ार में स्कूटरीकरण के लिए नया मार्ग प्रशस्त किया है। उपभोक्ताओं की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए होण्डा ने उद्योग जगत के अग्रणी एवं आधुनिक फीचर्स के साथ अपने स्कूटर पोर्टफोलियो का विस्तार किया। इस सेगमेन्ट में निर्विवादित नेतृत्व बनाए रखते हुए होण्डा के पास आज उद्योग जगत का सबसे बड़ा स्कूटर पोर्टफोलियो है, जिसमें क्लिक से लेकर देश का सबसे ज़्यादा बिकने वाला स्कूटर एक्टिवा और प्रीमियम 125 सीसी रेंज के एक्टिवा 125 एवं ग्राज़िया तक शामिल हैं। होण्डा अब भारत में नम्बर 1 स्कूटर बेचने वाला दोपहिया ब्राण्ड बन गया है, जिसका 57 फीसदी मार्केट शेयर है। देश में बेचा जाने वाला हर दूसरा स्कूटर होण्डा का है।

वाइस प्रेसीडेंट का कहना
इस मौके पर यदविंदर सिंह गुलेरिेया, सीनियर वाईस प्रेज़ीडेन्ट, सेल्स एण्ड मार्केटिंग, हौंडा मोटरसाइकल एण्ड स्कूटर इण्डिया प्रा लिमिटेड ने कहा, ‘‘स्कूटर बाज़ार में क्रान्ति की शुरूआत से लेकर देश का सबसे बड़ा दोपहिया वाहन विक्रेता बनने तक हौंडा एक्टिवा ने भारतीयों के राइडिंग के तरीके को पूरी तरह से बदल डाला है। हम अपने 25 मिलियन स्कूटर उपभोक्ताओं के प्रति आभारी हैं जिन्होंने हमारे ब्राण्ड में भरोसा रखा और हमें देश के सबसे पसंदीदा स्कूटर निर्माता के रूप में चुना है। हौंडा उपभोक्ताओं की ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए आधुनिक तकनीकों एवं इनोवेशन्स के साथ उन्हें उत्कृष्ट अनुभव प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। पिछले सालों के दौरान हौंडा स्कूटरों के लिए उपभोक्ताओं का प्यार और भरोसा तेज़ी से बढ़ा है, जो हमें आगे बढते रहने के लिए प्रेरित करता है। हौंडा देश में स्कूटरीकरण की अगली लहर शुरू करने के लिए तत्पर है, जिसकी शुरूआत दूसरे एवं तीसरे स्तर के शहरों में पहले से हो चुकी है।’’

भारतीय बाजार व स्कूटर
दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों में स्कूटरों का योगदान 70-80 फीसदी है, भारत तेज़ी से स्कूटरीकरण को अपना रहा है। देश की प्रगतिशील स्थिति के मद्देनज़र होण्डा इस क्रान्ति में अग्रणी है जहां इसके स्कूटर चण्डीगढ़, गोवा, केरल, उत्तर-पूर्वी राज्यों जैसे अरूणाचल प्रदेश, मिज़ोरम, मणिपुर, नागालैण्ड में 60 फीसदी तथा हिमाचल प्रदेश में 55 फीसदी का योगदान दे रहे हैं। मोटसाइकल पसंद करने वाले राज्यों में भी स्कूटरों की बिक्री साल दर साल तेज़ी से बढ़ रही है।