मारुति सुजुकी ने भारत में तीन लाख से अधिक एएमटी कारों की बिक्री की है। मारुति ने सबसे पहले 2014 में सेलेरियो हैचबैक को भारतीय बाजार में उतारा था। ये जापानी कार कंपनी मौजूदा समय में भारतीय बाजार में सात कारों को ऑटोमेटेड मैनुअल ट्रांसमिशन के साथ बेच रही है। ये कारें हैं-ऑल्टो के10, वैगनआर, सेलेरियो, स्विफ्ट, इग्निस, डिजायर और हाल ही में लॉन्च हुई विटारा ब्रेजा शामिल है। दुख देने वाले भारी ट्रैफिक में एएमटी कारें खूब डिमांड में हैं। मारुति की कुल बिक रही एएमटी कारों में 43 फीसदी गाड़ियां सेलेरियो हैं, 28 फीसदी में इग्निस और 17 फीसदी में नंबर डिजायर का है।

वित्त वर्ष 2017-18 में मारुति की ऑटोमेटिक कारों में तीन गुणा से भी ज्यादा की बढ़ोत्तरी हुई है अगर 2014-15 से इसकी तुलना करें। मारुति सुजुकी का इरादा 2018-19 में दो लाख एएमटी कारों को बेचने का है। एएमटी की सफलता पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मारुति सुजुकी के सीनियर एग्जीक्यूटिव(मार्केटिंग एंड सेल्स) आरएस कलसी ने बताया कि, “मारुति सुजुकी होने के नाते हमें पता है कि हमें ग्राहकों को सर्वोत्‍तम तकनीकि सुगमता से प्रदान करना है। ऑटो गियर शिफ्ट ने हमें इस दिशा में काफी आगे बढ़ने को प्रेरित किया इसमें ग्राहकों को माइलेज से कोई समझौता नहीं करना पड़ता। ग्राहकों ने इसे पूरी तरह से स्वीकार किया है। सिर्फ पांच साल में तीन लाख यूनिट की बिक्री पार करना हमारे लिए किसी उपलब्धि से कम नहीं है। इसके चलते मौजूदा वित्त वर्ष में हम 2 लाख कारों की बिक्री का लक्ष्य रख रहे हैं।”

मारुति के अलावा क्या हैं बाजार में एएमटी विकल्प
टाटा अपनी टिगोर, टियागो और नेक्सॉन, महिंद्रा केयूवी100, टीयूवी 300, रेनो क्विड, डस्टर और निसान टेरानो में एएमटी विकल्प मौजूद हैं।