वक़्त बदल रहा है, लोग बदल रहे हैं, धारणाएं बदल रही हैं और अब टाटा मोटर्स भी बदल रही है। नए जमाने के साथ कदमताल मिलाते हुए अब इस भारतीय कार कंपनी के पास ऐसे कई मॉडल हैं जो लोगों को पसंद आ रहे हैं। लेकिन इसी बीच पसंद न पसंद के बीच टाटा मोटर्स ने तेजी से बढ़ते यूवी सेगमेंट में धमाल मचा दिया। पिछले साल त्यौहारी सीजन में टाटा मोटर्स ने नेक्सॉन के जरिए इस सेगमेंट में एंट्री मारी और अब तक कंपनी ने लगभग 28 हजार नेक्सॉन की चाभी ग्राहकों को दे चुकी है। मजा तभी आता है जब अपना बनाया कुछ भी तरक्की करता है और उत्साह स्वरूप उसमें और कुछ इंवेस्ट करने का मन करता है। ऐसा ही कुछ टाटा मोटर्स ने अपने नेक्सॉन के साथ किया है। और अब जल्द ही बाजार में नेक्सॉन का एएमटी वेरिएंट बाजार में अपनी दस्तक देने को तैयार है। हमने नेक्सॉन एएमटी को पुणे के शहरी यातायात में चलाया और जानने की कोशिश कि ये एएमटी कितनी अलग है और ये आपको कितने काम की है।

आगे बढ़ने से पहले ये समझें
युटीलिटी वेहिकल सेगमेंट में टॉप पर अभी भी मारुति सुजुकी की विटारा ब्रेजा बनी हुई है। लेकिन इस कार में न तो पेट्रोल का विकल्प है और न ही एमएटी का। फोर्ड ईकोस्पोर्ट के पास एएमटी है लेकिन सिर्फ पेट्रोल वेरिएंट में। इस तरह से नेक्सॉन इस सेगमेंट की पहली ऐसी कार बन गई है जिसके पेट्रोल व डीजल दोनों ही वेरिएंट में एएमटी का विकल्प दिया गया है। इस तरह से टाटा मोटर्स ज्यादा ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित कर पाएगी। अब नेक्सॉन एएमटी में बेसिक ऑटोमेटेड मैनुअल ट्रांसमिशन के अलावा 6 स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स दे दिया गया है। लेकिन इन सबके बीच सबसे ज्यादा मजेदार लगता है इस गाड़ी का नया रंग जो कि एटना ऑरेंज है और इसके साथ इसमें सिल्वर रंग के छत का विकल्प दिया गया है। इसके अलावा इसके केबिन और बाहर किसी प्रकार का कोई बड़ा बदलाव नजर नहीं आता। एएमटी ग्राहकों को सिर्फ एक्सजेडए+ वेरिएंट में ही मिलेगी जो कि इसका टॉप वेरिएंट है।

डीजल इंजन
नेक्सॉन एएमटी वेरिएंट में मैनुअल गाड़ी वाला मल्टी ड्राइव मोड(ईको, सिटी और स्पोर्ट) और क्रीप फंक्‍शन दिया गया है जो कि बंपर टू बंपर यातायात में काफी मददगार साबित होगा। मैंने सबसे पहले डीजल एएमटी को चलाया जिसमें फोर सिलेंडर इंजन दिया गया है जो कि 110 एचपी की शक्ति और 260 एनएम का टॉर्क प्रदान करता है। इस एएमटी को इसका 6 स्पीड ट्रांसमिशन पूरी तरह से कांप्‍लीमेंट करता है। डीजल एएमटी चलाने में काफी स्मूद है और इसकी शिफ्टिंग काफी सटीकता से जरूरत पड़ने पर होती रहती है बिना कोई तनाव लिए। हाईवे पर तेज स्पीड के दौरान इसमें शक्ति की कोई कमी महसूस नहीं होती। जैसे-जैसे गाड़ी गति पकड़ती जाती है ये और भी स्टेबल होती जाती है। इसका एएमटी बेहद फुर्ती के साथ गियर को डाउन करता है, अगर आप कभी बहुत तेजी के साथ इसे एक्सीलरेट करते हैं उस स्थिति में भी इसकी शिफ्टिंग उसी तेजी के साथ अपना काम कर देती है।

मोड वाली बात

ईको मोड में जब आप ड्राइव करेंगे तो इसकी शिफ्टिंग बेहद सहजता के साथ एक्सीलरेटर से अपना कदम ताल मिलाते हुए ऊपर-नीचे शिफ्टिंग देता रहता है। जब गाड़ी स्पोर्ट मोड में रहती है उस दौरान अन्य मोड की तुलना में इसकी शिफ्टिंग ज्यादा लंबी हो जाती है जिससे आपको बढ़िया मूमेंटम मिल सके। मैनुअल में ड्राइव करते वक्त आप अपने दिमाग से ये बात एकदम निकाल दीजिए की गाड़ी अब और बढ़िया परफॉर्म करेगी। इसकी शिफ्टिंग मैनुअल में बहुत ज्यादा फुर्ती के साथ काम नहीं करती। अगर आपको नेक्सॉन से ज्यादा ड्राइविंग करने का मन करे तो बस एक काम कीजिए गाड़ी को स्पोर्ट मोड में ही रहने दीजिए और सब भूल जाइए ये आपके जज्बे को कमजोर नहीं पड़ने देगी।

पेट्रोल इंजन
इसमें तीन सिलेंडर टर्बो पेट्रोल इंजन लगा है जो कि पहले की ही तरह 110 एचपी की शक्ति व 170 एनएम का टॉर्क प्रदान करती है। लेकिन पते की बात ये है कि पेट्रोल एएमटी की तुलना में डीजल ज्यादा बेहतर काम करता है। कई मौकों पर पेट्रोल एएमटी पावर डिलीवरी कमजोर पड़ने लगती है। लेकिन बढ़िया शिफटिंग के साथ ये अपनी इस कमजोरी को छुपा लेती है। खासकरके शहरी ड्राइविंग में ये आपको एकदम निराश नहीं करती। कुल मिलाकर पेट्रोल एएमटी बंपर टू बंपर ट्रैफिक में आपके माथे पर ‌शिकन नहीं आने देती।

क्या आपको खरीदना चाहिए?

टाटा नेक्सॉन इसकी कीमत को मई 2018 के पहले हाफ में घोषित करेगी। हमें ऐसा लग रहा है टाटा मोटर्स इसके लिए 50 हजार रुपये तक ‌मैनुअल से ज्यादा महंगी हो सकती है। आज के समय को देखते हुए एएमटी काफी जरूरी बन पड़ा है और जिस अंदाज में इस सेगमेंट में टाटा ने अपनी इस पेशकश को दिया है उससे उम्मीद की जा रही है कि अभी इस कार को और बढ़िया रिस्पांस मिलना बाकी है। कुल मिलाकर ये बढ़िया सिटी ड्राइविंग कार है।

वीडियो रिव्यू देखें, और पावर ऑन व्हील को सब्सक्राइव करेंः-